• Lalita Tripathi

भगवान श्री कृष्ण का पसंदीदा भोग

जन्माष्टमी, भगवान कृष्ण जन्मोत्सव जो कृष्ण भक्तों के लिए एक ऐसा उत्सव है जिसका इंतजार भक्त साल भर करते हैं। जन्माष्टमी हर साल भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाता है। धार्मिक मान्यता के अनुसार, इस दिन भगवान श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था। रात 12 बजे भगवान कृष्ण की पूजा के बाद व्रत खोल जाता है। और इस खास दिन भक्त अपने भगवान के लिए कई तैयारियां करते हैं, जिनमें से एक है उनके लिए भोग तैयार करना। भगवान कृष्ण को इस दिन 56 भोग चढ़ाने की मान्यता है, लेकिन ये एक ऐसा भोग है जो उनसे सबसे ज्यादा प्रिय है और वो है माखन मिश्री भोग। इसके अलावा पंजीरी। जहां माखन मिश्री को खुद भगवान श्री कृष्ण बड़े चाव से खाया करते थे। वहीं पंजीरी भी खास तौर पर कृष्ण जन्माष्टमी भोग के तौर पर तैयार किया जाता है।



इन रिति-रिवाजों को मानते हुए जन्माष्टमी के दिन कान्हा जी की जन्म की खुशी में भक्त मक्खन मिश्री का भोग तैयार करते हैं। वैसे ये बेहद आसान भी होता है। इसके अलावा छप्पन भोग भी कहीं कहीं तैयार किए जाते माखन मिश्री का भोग बहुत जल्दी और आसानी से तैयार हो जाता है। इसके लिए बस सफेद मक्खन और मिश्री के दाने मिलाकर कृष्ण को भोग लगाते हैं। दही को अच्छी तरह से मथकर तैयार किया जाता है माखन यानी की मक्खन। मिश्री खांड़ से बनी होती है। आयुर्वेद के अनुसार माखन मिश्री स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। मक्खन बनाने की विधि बहुत ही आसान है।


माखन मिश्री रेसिपी



सामग्री

  • दही

  • पानी

  • मिश्री

विधि


स्टेप 1- सबसे पहले एक कटोरे में दही डालें और इसे मथानी या ब्लेंडर की सहायता से खूब फेंटते जाएं।


स्टेप 2--फेटने के दौरान निकलने वाले मक्खन को अलग रखते जाएं और इस दौरान दही में थोड़ा-थोड़ा करके पानी भी डालते रहें।


स्टेप3- जब दही से मक्खन निकल जाए तो निकाले हुए मक्खन में मिश्री डालडकर मिला लें। और इस तरह स तैयार हो गया श्री कृष्ण को प्रिय भोग माखन मिश्री।


तो इस तरह से आसानी से बन जाता है भगवान कृष्ण का सबसे पसंदीदा भोग माखन मिश्री। वैसे इस माखन मिश्री के बहुत ज्यादा फायदे भी हैं। आयुर्वेद कहता है कि माखन मिश्री के सेवन से आप निरोग रहते हैं।




आटे की पंजीरी


सामग्री


  • घी

  • काजू

  • बादाम

  • आटा

  • चीनी

विधि


स्टेप-1 सबसे पहले एक साफ कढ़ाही लें इसमें घी गर्म करें और इसमे आटा डालकर अच्छी तरह तब तक भूने जब तक ये हल्का ब्राउन ना हो जाए और अच्छी सी खुशबू ना आने लगे।


स्टेप 2- अब इसे ठंडा करें और इसमें चीनी, बादाम, काजू मिला लें और इस तरह से कृष्ण जन्माष्टमी का ये भोग भी बिल्कुल तैयार है।


तो पंजीरी और माखन मिश्री के भोग से कीजिए कृष्ण को प्रसन्न और पाईए खुशियां। जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं|

6 views0 comments